Bewajah

बेवजह बेहिसाब से हिसाब सब

कितने खाते कितने नाते

ताउम्र साथ चलने के झूठे वादे सब

आज है कल नहीं भी, फिर भी

बेहिसाब हसरते बेहिसाब नाराज़ी

कितने किस्से कितनो के हिस्से

बेवजह सब में बट जाने की साज़िशे सब

हर कोई है ताजिर यहाँ, ना जाने क्या पाने क्या खोने

खुद की ही नीलामी की आज़माइशे सब

– Pooja R. | © Tatva Musings

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: